Google search traffic descrease hone ki wajah 2018


Google search traffic descrease hone ki wajah 2018



बहुत टाइम बाद आज मैं seo पर रिसर्च Seo  पोस्ट लिख रहा हूं जिसमें आपको Google सर्च ट्राफिक कम होने की वजह के बारे में एक्सप्लेन  करके बताऊंगा इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप रियली समझ सकते हो कि 2018 में आपकी साइट का ट्राफिक कम क्यों हुआ है और अब आप इसे कैसे रिकवर कर सकते हैं.


एक टाइम था जब keywords SEO Optimisation or Google ranking badana bahut asan tha aur koi bhi aasani se  Apne content ko Google Me Top rank kar Leta tha.
lekin ab aisa nahi hai ab achche SEO expert ko Google se traffic nahi mil raha hai.

आपने देखा होगा बहुत से लोग आज का सच ट्राफिक बैटरी डिस्चार्ज हो गया है इसमें कुछ लोग तो ऐसा है जिनका ट्राफिक 50 तक के 70 टक्के तक डाउन हुआ है यह प्रॉब्लम सिर्फ हिंदी ब्लॉगर को ही नहीं है बल्कि सबको है हर उस ब्राउज़र के ब्लॉग का ट्राफिक कम हुआ है जो कि keywords का इस्तेमाल करता है.
इसलिए मैं आज इस पोस्ट में आपको बताने जा रहा हूं कि ब्लॉग ट्राफिक डाउन होने और 2018 में Google रैंकिंग  इनक्रीस करने या दोनों का पता चल जाएगा यानी एक ही पोस्टमें   आपको 2 सवालों का जवाब मिलेगा .


1. गूगल सर्च ट्राफिक descrease  होने की वजह 

2. गूगल सर्च रैंक इनक्रीस करने का तरीका 2018.

2018 में बहुत से ब्लागर्स ट्राफिक बहुत ही कम हुआ है। वह इसके रीजन के साथ इसका सलूशन भी जानना चाहते हैं जिसका जवाब इस पोस्ट में मैं आज आपको देने वाला हूं जो इस पोस्ट को रीड जरुर कर लीजिएगा.


Google search traffic down hone ki wajah 2018


अगर आपकी साइट का भी सर्च ट्रैफिक कम  हुआ है और आप उसे फिर से रिकवर करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को केयर फुली read करें ताकि आपको सब कुछ सही से समझ में आ सके और किसी भी तरह की कंफ्यूजन ना हो पहले कंटेंट को टॉप-10 कराना बहुत ही आसान था बस गूगल कीवर्ड प्लानर दो या कोई और कीवर्ड रिसर्च इन टूल का इस्तेमाल कर कंटेंट ऑप्टिमाइज़ करो और पोस्ट Google में नंबर वन पोजीशन  पर आ जाती थी लेकिन अब ऐसा बिल्कुल नहीं है बल्कि बेस्ट ऑप्टिमाइजेशन के बाद भी Google से अच्छा ट्राफिक नहीं मिल पा रहा है जहां हर रोज bloggers का ट्राफिक इनक्रीस होता था वही डे बाय डे डाउन हो रहा है.


      चलिए मैं आपको इसके बारे में थोड़ा एक्सप्लेन करके  बताता हूं। I hope कि आपको मेरी बात सही से समझ आ जाएगी Google ने सर्च इंजन algorithm में कई अपडेट किए हैं। लेकिन किसी के बारे में भी पब्लिक ली नहीं बता या है उनमें से चार रैंकिंग फैक्टर है जिनमें बड़ा बदलाव हुआ है.


1. Personalization
2. Device
3. Location
4. Keywords


In 4 search ranking factors main aap ko jawab Mil Jayega kya aap ke site ka  traffic kam kyu ho raha hai.


और अब आपको Google से ज्यादा traffic पाने के लिए क्या करना चाहिए मैं दोनों को एक साथ एक्सप्लेन कर रहा हूं.


1. Personalization

कुछ टाइम पहले Google अपनी सोशल साइट Google plus को सर्च रिजल्ट में टॉप रैंक देता था ऐसा उसने इसलिए किया था ताकि वह Facebook जैसे सोशल साइट को टक्कर दे सके उस टाइम अगर आप अपनी पोस्ट को Google Plus पर शेयर करते थे .वह गूगल सर्च में टॉप लाइन  पर होती थी लेकिन गूगलप्लस फेल हो चुका है, और Google ने अपने एल्गोरिथम को चेंज कर लिया है। अब Google अपनी वीडियो साइट YouTube को सर्च इंजन में टॉप पर शो कर रहा है।


  इसके लिए वह कहता है कि यूज़रर जो सर्च करेगा हमें उस टॉप में शो करेंगे लेकिन ऐसा नहीं है Google उनकी WhatsApp अभी YouTube वीडियोस शो करता है. जिन पर वीडियोस की जरूरतत नहीं है इन दो बातों से साफ पता चलता है कि Google निजी  कारण करता है.


लेकिन हम इस बात को नहीं मानेंगे और किसी दूसरे मैटर पर बात  करेंगे Google पहले यूजर की सर्च हिस्ट्री के अकॉर्डिंगी सर्च रिजल्ट डिस्प्ले करता था फॉर example आप गूगल में वेबसाइट सर्च करें सर्च करते हो और किसी xyz वेबसाइट पर विजिट करके आर्टिकल रेट करते हो Google आपकी इस एक्टिविटी को ट्रेस कर लेता है.

अब जब भी आप Google में कोई कीवर्ड सर्च करोगे तो Google टॉप पोजीशन में Xyz वेबसाइट के पेज को शो करेगा  अगर उस साइड पर आपके द्वारा सर्च किए गए कीवर्ड से रिलेटेड कंटेंट है तो ही शो करेंगे उसके बाद दूसरी साइड को लाइक करेगा इसका मतलब किसी यूज़र को आपकी साइट के बारे में पता चलता है और वह आपके 102 आर्टिकल रेट कर लेता है तो Google नेक्स्ट टाइम उसे आपकी ही साइड का दिखाएगा और आपकी साइट पर Google सर्च ट्राफिक ज्यादा होगा .

यह फॉर्मूला Google ने कई सालों तक यूज़ किया है लेकिन अब Google ने यह फार्मूला बदल लिया है और अब ऐसा बिल्कुल नहीं होता Google अब यूजर हिस्ट्री के अकॉर्डिंग सर्च रैंकिंग नहीं देता।
अब जब भी यूजर Google में सर्च करता है तो उसे नेक्स्ट टाइम न्यू वेबसाइट के लिंक मिलते हैं यानी Google और रैंडम रिजल्ट को ज्यादा फोकस कर रहा है.

मैं आपको बता दूं कि आपकी साइट पर Google सर्च करके विजिट करते हैं और बहुत कम लोग डायरेक्ट साइड ओपन करते हैं तो इससे जो लोग गूगल सर्च करके आपकी साइट पर विजिट करते हैं ट्रैफिक में थोड़ा लॉस होगा.


2. Device


Ek time tha Jab Google device par itna  फोकस Nahi Karta Tha lekin Pichle kuch time se Google Device par sabse Jyada focus kar raha hai. Google app desktop ki तुलना में mobile यूजर पर  Jyada focus kar raha hai । Kyunki wo janta hai ki word mein desktop ki tulna Me  mobile user Jyada hai .

स्मार्टफोन आज इतने स्मार्ट हो गए हैं कि उस  पर आप कंप्यूटर  से होने वाला काम भी आसानी से कर सकते हैं अगर हम मोबाइल को मिनी कंप्यूटर कहे तो गलत नहीं होगा मतलब साफ है अगर आपकी साइट मोबाइल फ्रेंडली नहीं है तो आपका मोबाइल रैंकिंग कम होगी.

और Google सर्च ट्राफिक कम होगा फॉर example प्रूफ आप देख सकते हैं कि जो साइड डेक्सटॉप में टॉप में जो होती थी वह अब मोबाइल में नहीं होती है।

सिर्फ मोबाइल ही नहीं आपकी साइट डेक्सटॉप टैबलेट फोन एंड आल्सो स्क्रीन डेविशेस सभी में प्रॉपर वर्क करनी चाहिए.


3.  Location

Google location level par kaam karta aa raha hai uske anusar आपको  ko Sahi Jankari Dena Chahta Hai iske liye Woh country level  par search results show karta hai.

अब Google बहुत स्मार्ट हो चुका है और उसने अपने ऑफिशियल ब्लॉक पर बताया भी था कि अब वह लोकल एरिया एंड लैंग्वेज को ज्यादा सपोर्ट करेगा इससे फायदा यह होगा कि यूज़र को अपनी भाषा में और नियम की इंफॉर्मेशन मिलेगी.

फॉर example अगर आप Google में रेस्टोरेंट सर्च करते  हो तो Google आपके लोकेशन के अकॉर्डिंग सर्च रिजल्ट शो करेगा इससे ब्लॉगर्स को नुकसान यह है कि लोकल यूजर्स को Google उनकी ही लैंग्वेज की साइट को शो करेगा .

और उन पर Google सर्च ट्राफिक ज्यादा होगा लाइक आपकी साइट इंग्लिश में है और एक साइड जो मराठी में है दोनों पर same article  लिखा हुआ है अब जब कोई मराठी लैंग्वेज वाले फील्ड से सर्च करेगा तो Google उसके साइड को टॉप में शो करेगा पहले ही आपकी साइट उससे कई गुना बेहतर हो.


4. Keywords

2018 में ब्लॉगर्स का ट्राफिक कम होने की का ट्राफिक कम होने की यह सबसे बड़ी वजह है एक टाइम था जब बड़ी आसानी से की ओर ऑप्टिमाइज़ इन कर पोस्ट को Google में आसानी से rank  करा लिया जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं है,

अब के वर्ष ऑप्टिमाइजेशन seo ऑप्टिमाइज़ seo के बाद भी आप की पोस्ट रैंकिंग करेंगी जरूरी नहीं है। क्योंकि अब गूगल कीवर्ड से ज्यादा कंटेंट क्वालिटी पर फोकस कर रहा है यही सबसे बड़ी वजह है कि जो जो लोग Google के लिए कंटेंट लिखते हैं उनका ट्राफिक ज्यादा कम हुआ है.

मैं यह इसलिए कह रहा हूं क्योंकि मेरे कुछ आर्टिकल है जो मैंने विद आउट keywords research  के लिखे थे उन पर पहले बहुत कम ट्रैफिक था लेकिन अब वह टॉप पोजीशन पर शो होते हैं.

और उन पर ट्राफिक भी बढ़ गया है यानि अब बस आप का कंटेनर अच्छा होना चाहिए और यूजर्स को पसंद आना चाहिए।
वह Google में भी टॉप रैंक में  होगा Google कहता भी है कि जिस कंटेंट को यूजर पसंद करेंगे उसे Google भी पसंद करेगा यानी सर्च इंजन की जगह यूजर्स के लिए लिखना बैटर है मेरा कहने का मतलब यह नहीं है कि आपकी keywords का इस्तेमाल ही नहीं करना चाहिए ।

करना है लेकिन इससे ज्यादा कंटेंट क्वालिटी पर फोकस करो और साथ ही क्वालिटी कंटेंट पर फोकस करो। अपनी साइट पर सोशल मीडिया में ट्राफिक बढ़ाने की कोशिश करो, जब आपकी साइट पर सोशल मीडिया से टॉपिक आने लगेगा तो Google भी उसे टॉप रैंक देगा.

और आपकी साइट पर Google सर्च ट्राफिक बढ़ जाएगा अभी Google YouTube को टॉप दे रहा है अपनी साइट के नाम से चैनल बनाकर वीडियो भी बनाना शुरू कर दे.

I  होप आपको समझ आ गया होगा कि आपकी साइट का ट्राफिक कम क्यों हुआ है और आप उसे कैसे rank  कर सकते हैं अगर आप सोच रहे हैं कि बिना कुछ किए ही ट्राफिक रिकवर हो जाएगा तो ऐसा नहीं होने वाला है.

No comments

Congratulations, you have the opportunity to be the first comments on this article .
have a question or suggestion ? please leave a comment to start the discussion.




Thanks for choosing to leave or comment please keep mind that all comments are moderate according to our comment policy, and your email address will not be published please do not use a Keyword in the name field let's have a personal and meaningful conversation

Powered by Blogger.